logop
Home

6 अप्रैल से प्रारम्भ होगी चैत्र नवरात्र, करें ये काम मिलेगा मां का भरपूर आशीर्वाद!



  • Share


  • न्यूज स्ट्रेट। नौ दिनों तक मां की आराधना और उपवास करने वाली चैत्र नवरात्र इस बार 6 अप्रैल से शुरू हो रही हैं। नवरात्र मे आराधना और उपवास करने से भक्तजनों को विशेष फल की प्राप्ति होती है। नौ दिनों का यह समय बेहद महत्वपूर्ण होता है इस दौरान न केवल मन को शांति की प्राप्ति होती है बल्कि शरीर की भी आंतरिक रूप से सफाई जो जाती है। वैसे तो हर कोई नवरात्र का व्रत कर सकता है लेकिन इस दौरान कुछ जरूरी बातों का ख्याल रखना चाहिए ताकि आपको मनोवांछित फल की प्राप्ति हो सके। नवरात्र के दौरान आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं....।

    क्या करें-  

    जौ बोना- कलश स्थापना से पहले मिट्टी में जौ बोकर उसे स्थापित किया जाता है।

    मां के दर्शन- नवरात्र में हर रोज मंदिर जा कर मां के दर्शन करने चाहिए।

    जल देना-पूजा के बाद सूर्य देव को जल देना चाहिए।

    उपवास रखना- नौ दिनों तक अपनी स्वाद इंद्रिय पर नियंत्रण रखने के लिए व्रत करना चाहिए, इस दौरान तामसिक भोज्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

    मां का श्रृंगार- नौ दिनों तक पूजा करने से पहले मां का विधिवत श्रृंगार करें, इस दौरान सभी लाल रंग की चीजों का इस्तेमाल करें और गुड़हल का फूल अर्पित करें, मां को ये अतिप्रिय है।

    कन्या भोज- व्रत खोलने से पहले छोटी कन्याओं को भोजन कराएं, कन्या को मां का रूप माना जाता है।

    अखंड दीपक जलाना- नौ दिन तक लगातार दीपक जलाना चाहिए।

    क्या न करें..........

    इस दौरान दाढ़ी.मूंछ और बाल कटवाने से परहेज करें। नाखून काटने से भी बचना चाहिए। यदि आप नवरात्र में विधिवत कलश स्थापित कर मां का पूजन कर रहे हैं तो कभी भी घर को एकदम खाली न रहने दें,कोई न कोई लगातार घर में बना रहना चाहिए। इस दौरान तामसिक भोजन नहीं लेना चाहिए, मसलन खाने में प्याज, लहसुन नहीं डालना चाहिए। नौ दिनों तक शारीरिक सम्बन्ध बनाने से परहेज करना चाहिए।